Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

समाचार

उत्तराखंड में 10 साल से नहीं बढ़ा मतदान प्रतिशत, जानिए 10 बड़ी वजहें?

जिस राज्य के निर्माण के लिए लंबा जन आंदोलन चला, लोगों ने शहादतें दीं, वहां मतदान में कमी राजनीतिक माहौल से निराशा और मतदाताओं की उदासीनता को उजागर करती है।

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में इस बार 65.37 फीसदी मतदान हुआ जबकि 2017 में 65.60 फीसदी और 2012 में 67.22 फीसदी मतदान हुआ था। पिछली बार के मुकाबले मतदान प्रतिशत में थोड़ी गिरावट आई है। 2012 के मुकाबले मतदान 1.85 फीसदी की कम है। हरिद्वार और उधमसिंह नगर जिलों में सबसे ज्यादा 74.77 फीसदी और 72.27 फीसदी मतदान हुआ, वहीं अल्मोडा जिले में सबसे कम 53.71 फीसदी, पौड़ी गढ़वाल में 54.87 फीसदी और टिहरी गढ़वाल में 56.34 फीसदी मतदान हुआ। पर्वतीय और मैदानी जिलों में मतदान का अंतर साफ दिख रहा है।

उत्तराखंड में पिछले 10 साल से मतदान का प्रतिशत नहीं बढ़ा है बल्कि इसमें गिरावट आई है। मतदान में इस ठहराव को पर्वतीय क्षेत्रों से लोगों के पलायन, मतदाताओं में जागरुकता की कमी, सर्दियों में चुनाव कराने समेत कई कारणों से जोड़कर देखा जा रहा है। लगातार दो चुनावों में मतदान प्रतिशत में गिरावट चुनाव आयोग की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े करती है। लेकिन यह उत्तराखंड में कोई बड़ा मुद्दा नहीं है। किसी भी बड़े राजनीतिक दल ने चुनाव से पहले या बाद में कम मतदान को लेकर चिंता जाहिर नहीं की।

2022 और 2017 में कई समानताएं

उत्तराखंड में 2022 और 2017 के मतदान पैटर्न में कई समानताएं हैं। 2017 में मैदान की छह विधानसभा सीटों पर 80 फीसदी से ऊपर मतदान हुआ था जबकि पहाड़ की 4 विधानसभा सीटों पर 50 फीसदी से कम मतदान हुआ था। इस बार भी मैदान की छह सीटों पर 78 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ है जबकि पर्वतीय क्षेत्रों की 4 सीटों पर 50 फीसदी से कम मतदान हुआ। 2017 में उधमसिंह नगर और हरिद्वार जिले में सर्वाधिक मतदान हुआ था। इस बार भी इन दोनों जिलों में सबसे ज्यादा वोटिंग हुई। हालांकि, उधमसिंह नगर जिले के मतदान में 3.74 फीसदी की गिरावट आई और इस बार हरिद्वार आगे निकल गया।

2017 में अल्मोड़ा और पौड़ी गढ़वाल जिलों में सबसे कम मतदान हुआ था। इस बार भी सबसे कम मतदान इन्हीं जिलों में हुआ है। जिन तीन सीटों पर 2017 में सर्वाधिक मतदान हुआ था वे हरिद्वार जिले में थीं। इस बार भी सर्वाधिक मतदान वाली तीनों सीटें हरिद्वार ग्रामीण, भगवानपुर और लक्सर हरिद्वार जिले में हैं। इसी तरह 2017 में सबसे कम मतदान पहाड़ की सल्ट, चौबट्टाखाल और लैंसडाउन सीट पर हुआ था। इस बार भी प्रदेश में सबसे कम मतदान इन तीन सीटों पर हुआ है।

9 जिलों में औसत से कम मतदान

हरिद्वार और उधमसिंह नगर जिलों में अधिक मतदान की वजह से उत्तराखंड में औसत मतदान 65.37 फीसदी तक पहुंच गया। लेकिन यह आंकड़ा राज्य की सही तस्वीर पेश नहीं करता है। उत्तराखंड के 13 में से 9 जिले ऐसे हैं जहां राज्य के औसत मतदान से कम वोटिंग हुई। पर्वतीय जिलों में उत्तरकाशी एकमात्र जिला है जहां राज्य के औसत से अधिक 68.48 फीसदी मतदान हुआ। हालांकि, 2017 के मुकाबले वहां भी मतदान में कमी आई है।   

2017 के मुकाबले जिन जिलों के मतदान प्रतिशन गिरा है उनमें उत्तरकाशी, हरिद्वार, नैनीताल और उधमसिंह नगर जिले शामिल हैं। जबकि चमोली, रुद्रप्रयाग, टिहरी गढ़वाल, देहरादून, पौड़ी गढ़वाल, पिथौरागढ़, बागेश्वर, अल्मोड़ा और चंपावत जिलों में मतदान का प्रतिशत थोड़ा बढ़ा है। सबसे ज्यादा 3.26 फीसदी बढ़ोतरी चमोली जिले में दर्ज की गई।

हरिद्वार ग्रामीण में सर्वाधिक, चौबट्टाखाल में सबसे कम मतदान

उत्तराखंड में सर्वाधिक 81.94 फीसदी मतदान हरिद्वार ग्रामीण विधानसभा में हुआ जबकि सबसे कम 45.33 फीसदी वोट पौड़ी गढ़वाल जिले की चौबट्टाखाल विधानसभा में पड़े। राज्य में सबसे कम मतदान वाली पांच में से दो सीटें पौड़ी और दो अल्मोड़ा जिले में हैं जबकि सर्वाधिक मतदान वाली टॉप 5 में से चार सीटें हरिद्वार जिले में हैं।

35 सीटों पर औसत से कम मतदान

उत्तराखंड विधानसभा की 70 में से 35 सीटों में राज्य के औसत 65.37 फीसदी से कम मतदान हुआ है। इन 35 सीटों में से 9 सीटें मैदानी जिलों में हैं जबकि 26 सीटें पर्वतीय क्षेत्रों में हैं। मैदान की 18 सीटें ऐसी हैं जहां 70 फीसदी से अधिक मतदान हुआ। इनमें से 8 सीटें हरिद्वार जिले में हैं। मतदान प्रतिशत में पर्वतीय जिलों और मैदानी जिलों के बीच यह खाई लगातार बनी हुई है जिसे पाटने के लिए ना तो राजनीतिक दलों ने गंभीरता दिखाई और ना ही चुनाव आयोग ने विशेष प्रयास किए हैं।

शहरी सीटों पर कम मतदान

राज्य के औसत से कम मतदान वाले जिलों में देहरादून भी शामिल है। देहरादून कैंट में महज 56.89 फीसदी वोटिंग हुई। देहरादून शहर की चार विधानसभा सीटों पर 60 फीसदी से कम मतदान हुआ जबकि विकासनगर में 75.74 फीसदी और सहसपुर में 72.98 फीसदी वोटिंग हुई। उधर, नैनीताल सीट पर भी मात्र 55.25 फीसदी मतदान हुआ।

हरिद्वार जिले में जहां प्रदेश में सर्वाधिक मतदान हुआ वहां भी शहर की सीटों पर कम वोटिंग हुई। हरिद्वार शहर में 64.89 फीसदी और रुड़की में 63.10 फीसदी वोट पड़े। इसी तरह उधमसिंह नगर की काशीपुर सीट पर 64.26 फीसदी मतदान हुआ। ग्रामीण और अर्ध ग्रामीण सीटों के मुकाबले प्रदेश के शिक्षित शहरी क्षेत्रों में कम मतदान हुआ है। मैदान की ग्रामीण सीटों पर जहां 75-80 फीसदी मतदान हुआ, वहीं शहरी सीटों पर मतदान का प्रतिशत 60-65 फीसदी के आसपास सिमट गया।

चुनाव आयोग पर उठे सवाल

नीतिगत मामलों के जानकार और एसडीसी फाउंडेशन के संस्थापक अनूप नौटियाल कहते हैं कि शहरी मतदाता अपने अधिकारों और मुद्दों को लेकर काफी मुखर रहते हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों के मुकाबले शहरी सीटों पर मतदान का प्रतिशत काफी कम रहा है। नौटियाल ने पिछले 10 साल से मतदान में ठहराव के पीछे पर्वतीय क्षेत्रों से पलायन, सर्द मौसम में चुनाव, कोविड काल के असर, मतदाताओं में जागरुकता के अभाव और चुनाव आयोग के प्रयासों में कमी समेत कई कारण गिनाए हैं। उनका मानना है कि मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए सरकार, राजनीतिक दलों, चुनाव आयोग, सिविल सोसायटी, मीडिया और नागरिकों को मिल-जुलकर प्रयास करने होंगे।

उत्तराखंड में 14 फरवरी को चुनाव कराने के फैसले पर सवाल उठाते हुए अनूप नौटियाल कहते हैं कि भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए राज्य में आखिरी चरण में चुनाव कराने चाहिए थे। जन भागीदारी बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग को सिविल सोसायटी समेत सभी पक्षों को साथ लेकर काम करना चाहिए था। पिछले तीन चुनावों से सबक लेना जरूरी है। जिन सीटों पर मतदान का प्रतिशत कम रहता है वहां लीक से हटकर टारगेटेड कैंपेन की जरूरत है। नौटियाल मानते हैं कि चुनाव आयोग के प्रचार और जागरूकता अभियान पुराने ढर्रे पर चले जिनमें इनोवेशन की कमी थी। वोटर लिस्ट से लोगों के नाम कटने, पर्वतीय क्षेत्रों में पोलिंग बूथ की दूरी और मतदाताओं की उदासीनता की वजह से भी मतदान प्रतिशत में ठहराव आया है।

कई पर्वतीय सीटों पर खूब मतदान

ऐसा नहीं है कि पहाड़ की सभी सीटों पर मतदान कम हुआ। पुरोला में 69.40 फीसदी, चकराता में 68.24 फीसदी, यमुनोत्री में 68.12 फीसदी, गंगोत्री में 68.01 फीसदी और केदारनाथ में 66.43 फीसदी मतदान हुआ है। लेकिन पहाड़ की अधिकांश सीटों पर मतदान प्रतिशत में खास बढ़ोतरी नहीं हुई। कमोबेश 2017 वाला ही पैटर्न 2022 में भी रहा है। पहाड़ की कई सीटों पर मैदान की शहरी सीटों से अधिक मतदान हुआ है।

2012 पर ठहरा मतदान प्रतिशत

उत्तराखंड में 2002 के चुनाव में 54.34 फीसदी मतदान हुआ था जो 2007 में बढ़कर 59.50 फीसदी तक पहुंचा गया। 2012 की वोटिंग में जबरदस्त उछाल आया और राज्य में 67.22 फीसदी मतदान हुआ। लेकिन तब से मतदान में गिरावट का सिलसिला जारी है और यह 65 फीसदी के आसपास ठहरा हुआ है। हैरानी की बात हे कि पर्वतीय क्षेत्रों में लगातार कम मतदान के बावजूद इस बार बर्फबारी के मौसम में चुनाव कराये गये। चुनाव से पहले बारिश और बर्फबारी के चलते पर्वतीय क्षेत्रों में उम्मीदवारों को प्रचार में दिक्कतें आईं। पोलिंग पार्टियों को पहुंचने में भी परेशानी का सामना करना पड़ा।

उत्तराखंड में मतदान प्रतिशत में ठहराव को राज्य के राजनीतिक माहौल से जोड़कर भी देखा जा रहा है। इस बार भाजपा के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर, आम आदमी पार्टी के मजबूती से चुनाव लड़ने और कई सीटों पर उत्तराखंड क्रांति दल की प्रबल दावेदारी से मतदान प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद की जा रही थी। लेकिन इस बार भी मतदान पिछले चुनाव के आंकड़े को नहीं छू पाया।

24 Comments

24 Comments

  1. gate.io

    February 27, 2023 at 4:39 am

    For my thesis, I consulted a lot of information, read your article made me feel a lot, benefited me a lot from it, thank you for your help. Thanks!

  2. binance tr den binance para aktarma

    March 5, 2023 at 2:00 pm

    Very nice post. I just stumbled upon your blog and wanted to say that I’ve really enjoyed browsing your blog posts. In any case I’ll be subscribing to your feed and I hope you write again soon!

  3. Cryptocurrency Prices

    March 6, 2023 at 5:57 pm

    I have read your article carefully and I agree with you very much. So, do you allow me to do this? I want to share your article link to my website: Cryptocurrency Prices

  4. gate.io

    March 10, 2023 at 11:36 am

    I have read your article carefully and I agree with you very much. This has provided a great help for my thesis writing, and I will seriously improve it. However, I don’t know much about a certain place. Can you help me?

  5. binance mac

    April 6, 2023 at 1:17 am

    Thanks for sharing. I read many of your blog posts, cool, your blog is very good.

  6. I don’t think the title of your article matches the content lol. Just kidding, mainly because I had some doubts after reading the article.

  7. Your article helped me a lot, is there any more related content? Thanks!

  8. binance Kontoerstellung

    April 18, 2023 at 1:54 am

    I don’t think the title of your article matches the content lol. Just kidding, mainly because I had some doubts after reading the article.

  9. gate io vip 1 olma

    May 20, 2023 at 9:58 pm

    I am a website designer. Recently, I am designing a website template about gate.io. The boss’s requirements are very strange, which makes me very difficult. I have consulted many websites, and later I discovered your blog, which is the style I hope to need. thank you very much. Would you allow me to use your blog style as a reference? thank you!

  10. gate.io

    May 26, 2023 at 10:04 pm

    I may need your help. I’ve been doing research on gate io recently, and I’ve tried a lot of different things. Later, I read your article, and I think your way of writing has given me some innovative ideas, thank you very much.

  11. binance sign up

    May 28, 2023 at 12:19 pm

    I don’t think the title of your enticle matches the content lol. Just kidding, mainly because I had some doubts after reading the enticle. https://www.binance.com/en/register?ref=P9L9FQKY

  12. Rastrear Teléfono Celular

    February 8, 2024 at 1:38 am

    Rastreador de teléfono celular – Aplicación de rastreo oculta que registra la ubicación, SMS, audio de llamadas, WhatsApp, Facebook, fotos, cámaras, actividad de Internet. Lo mejor para el control parental y la supervisión de empleados. Rastrear Teléfono Celular Gratis – Programa de Monitoreo en Línea.

  13. Rastrear teléfono

    February 10, 2024 at 5:05 pm

    La mejor aplicación de control parental para proteger a sus hijos – monitoriza en secreto GPS, SMS, llamadas, WhatsApp, Facebook, ubicación. Puede monitorear de forma remota las actividades del teléfono móvil después de descargar e instalar apk en el teléfono de destino.

  14. dobry sklep

    March 10, 2024 at 3:04 am

    Wow, awesome weblog structure! How long have you been blogging for?
    you make blogging look easy. The entire look of your web site is wonderful, let alone
    the content material! You can see similar here najlepszy sklep

  15. sklep internetowy

    March 14, 2024 at 1:02 pm

    Thank you a bunch for sharing this with all people you actually
    know what you are speaking approximately! Bookmarked. Kindly additionally seek advice from my web site =).
    We may have a link exchange arrangement among us I saw similar here: Najlepszy sklep

  16. e-commerce

    March 22, 2024 at 7:02 am

    This is really interesting, You’re a very skilled blogger.
    I have joined your rss feed and look forward to seeking
    more of your magnificent post. Also, I’ve shared your
    site in my social networks! I saw similar here:
    Najlepszy sklep

  17. sklep internetowy

    March 24, 2024 at 12:17 pm

    Hey! Do you know if they make any plugins to assist with
    Search Engine Optimization? I’m trying to get my
    blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good success.
    If you know of any please share. Appreciate it! You can read similar article here: Sklep

  18. Analytical Agency

    March 24, 2024 at 8:52 pm

    It’s very interesting! If you need help, look here: ARA Agency

  19. e-commerce

    March 28, 2024 at 12:55 am

    Hi there! Do you know if they make any plugins to help with SEO?
    I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good gains.
    If you know of any please share. Kudos! You can read similar blog here: Sklep online

  20. sklep internetowy

    March 28, 2024 at 5:59 pm

    Hey there! Do you know if they make any plugins to help with SEO?
    I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good
    gains. If you know of any please share. Appreciate it!
    You can read similar article here: Sklep internetowy

  21. sklep internetowy

    March 29, 2024 at 7:38 am

    Hello! Do you know if they make any plugins to assist with SEO?

    I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good gains.
    If you know of any please share. Appreciate it! You can read similar
    article here: Dobry sklep

  22. Backlinks List

    April 4, 2024 at 2:24 am

    Hello there! Do you know if they make any plugins to help with Search Engine
    Optimization? I’m trying to get my site to rank for some targeted keywords
    but I’m not seeing very good gains. If you know of any please share.
    Many thanks! I saw similar blog here: List of Backlinks

  23. Scrapebox AA List

    April 4, 2024 at 3:16 am

    Hello! Do you know if they make any plugins to help with Search Engine Optimization? I’m trying
    to get my website to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good success.
    If you know of any please share. Thank you!
    I saw similar blog here: GSA Verified List

  24. celestique.top

    April 16, 2024 at 1:11 am

    Wow, fantastic blog format! How long have you ever been blogging for?
    you make running a blog look easy. The total glance of your web
    site is magnificent, let alone the content material! You can see similar here sklep internetowy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संबंधित पोस्ट

News

मंगलवार को किसानों पर आंसू गैस छोड़ने और उनकी मांगों को पूरा नहीं करने पर विपक्ष ने मोदी सरकार को घेरा है। कांग्रेस, समाजवादी...

समाचार

पीएम किसान सम्मान निधि के लाभार्थियों के लिए अच्छी खबर है। सरकार अब ई-केवाईसी के लिए देश के कई गांवों में कैम्प लगाने जा...

कृषि

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (पीएम किसान) की 16 वीं किस्त जारी करने की तैयारी है। ऐसे में किसानों के लिए एक जरूरी सूचना...

News

सोमवार को किसान और केंद्रीय मंत्रियों के बीच हुई वार्ता फेल होने के बाद, मंगलवार को पंजाब से दिल्ली की ओर कूच कर रहे...