Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

कृषि

हरियाणा में अब किसान ड्रोन से नैनो यूरिया का कर सकेंगे छिड़काव, प्रति एकड़ देना होगा 100 रुपये

अब हर‍ियाणा में किसान नैनो यूरिया के छिड़काव के ल‍िए ड्रोन का इस्तेमाल कर सकेंगे। हरियाणा सरकार ने इसके ल‍िए हर जिले का लक्ष्य निर्धारित कर दिया है। कोई भी किसान इसके लिए आवेदन कर सकेगा और आवेदन ऑनलाइन रज‍िस्ट्रेशन से होगा। किसानों को ड्रोन से छिड़काव के लिए प्रति एकड़ 100 रुपये का शुल्क देना होगा। एक बार में ड्रोन 10 लीटर तक लिक्विड लेकर उड़ सकता है, ऐसे में एक दिन में आसानी से 20 से 25 एकड़ में छिड़काव क‍िया जा सकेगा। छिड़काव के लिए ड्रोन कृषि विभाग की ओर से फ्री में उपलब्ध करवाया जाएगा।

कैसे मिलेगा फायदा

ड्रोन सुविधा का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा, इसके लिए मेरी फसल मेरा ब्यौरा के पोर्टल पर रज‍िस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन किसान को अपने मोबाइल या कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान ही किसानों को यूरिया का आवेदन करना होगा और प्रति एकड़ 100 रुपये के हिसाब सी उसकी फीस भी जमा करवानी होगी। इस समय राज्य में मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर 2023-24 के अगस्त माह तक खरीफ फसल के लिए 8.87 लाख किसानों द्वारा रज‍िस्ट्रेशन करवाया गया है। प्रदेश की 60.40 लाख एकड़ भूमि का पोर्टल पर रज‍िस्ट्रेशन हो चुका है। ऐसे में पहले से रज‍िस्ट्रेशन करा चुके क‍िसान सीधे फायदा उठा सकते हैं।

केवल नैनो यूरिया के लिए ही होगा आवेदन

सरकार ने इस तकनीक को जल्द किसान तक पहुंचाने के लिए प्रत्येक जिले का लक्ष्य निर्धारित किया है। जैसे पलवल जिले में ड्रोन से नैनो यूरिया का छिड़काव चार हजार एकड़ में करने का लक्ष्य रखा गया है। सरकार के अनुसार ड्रोन से किसान केवल नैनो यूरिया का ही छिड़काव कर सकेंगे। किसान यह जानकारी विभाग के एडीओ को देंगे और शुल्क भुगतान करने वाले किसान के खेत में ड्रोन से नैनो यूरिया का छिड़काव विभाग द्वारा करवाया जाएगा। एक दिन में एक ड्रोन से आसानी से 20 से 25 एकड़ में छिड़काव क‍िया जा सकता है। और एक बार में ड्रोन 10 लीटर तक नैनो यूरिया लिक्विट लेकर उड़ सकेगा।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...