Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

कृषि

अब किसान ट्रक ऑन ट्रेन सर्विस का ले सकेंगे फायदा, 3 दिन की जगह एक दिन में गुजरात पहुचेंगे कृषि उत्पाद

किसान अब ट्रक ऑन ट्रेन सेवा का इस्तेमाल कर सकेंगे। इसके जरिए वह अपने कृषि उत्पाद ट्रेन के जरिए गुजरात के पालनपुर तक पहुंचा सकेंगे। इस पहल का फायदा पश्चिमी यूपी, हरियाणा, राजस्थान, पंजाब, दिल्ली, हिमाचल, उत्तराखंड के किसानों को सबसे ज्यादा मिल सकेगा। ‘ट्रक ऑन ट्रेन’ या ‘रोल-ऑन, रोल-ऑफ’ (आरओआरओ) सेवा केवल अमूल डेयरी के लिए गुजरात से हरियाणा तक दूध परिवहन के लिए शुरू की गई थी। लेकिन अब इसे मालगाड़ी में पांच अतिरिक्त वैगन जोड़कर अन्य ग्राहकों के लिए भी शुरू कर दिया गया है। इसके पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को हरियाणा के न्यू रेवाड़ी से उत्तर प्रदेश के न्यू खुर्जा तक पश्चिमी और पूर्वी समर्पित मालढुलाई गलियारे को जोड़ने वाले 173 किलोमीटर लंबे सेक्शन की शुरूआत की थी।

क्या है ट्रक ऑन ट्रेन सर्विस

डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (डीएफसीसीआईएल) द्वारा पेश की गई ट्रक ऑन ट्रेन सर्विस है। जिसके जरिए गुजरात के पालनपुर तक बेहद कम समय में कृषि उत्पाद किसान पहुंचा सकते हैं। पश्चिमी डीएफसीसीआईएल के कार्यकारी निदेशक प्रवीण कुमार ने पीटीआई को बताया कि ‘ट्रक ऑन ट्रेन’ या ‘रोल-ऑन, रोल-ऑफ’ (आरओआरओ) सर्विस के लिए मालगाड़ी में पांच अतिरिक्त वैगन जोड़ दिए गए हैं। ट्रक ऑन ट्रेन सेवा की शुरुआत से जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) और रेवाड़ी के बीच यात्रा का समय काफी कम हो गया है।

एक दिन में पहुंचेगा सामान

नई सर्विस शुरू होने से पहले जेएनपीटी और रेवाड़ी के बीच की दूरी तय करने में जिन मालगाड़ियों को तीन दिन से अधिक का समय लगता था। लेकिन अब एक दिन के भीतर उत्पाद पहुंच जाएंगे। इसके पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को हरियाणा के न्यू रेवाड़ी से उत्तर प्रदेश के न्यू खुर्जा तक पश्चिमी और पूर्वी समर्पित मालढुलाई गलियारे को जोड़ने का उद्घाटन किया था। नया खंड न्यू रेवाड़ी और न्यू खुर्जा के बीच यात्रा का समय पहले के 24 घंटे से कम करके तीन घंटे कर देगा।

इसके पहले जून 2023 में ट्रक ऑन ट्रेन सर्विस गुजरात से शुरू की गई थी। ट्रक ऑन ट्रेन से दूध के टैंकर लाने पर अब सीधे 15 घंटे की बचत होती है। एक ट्रेन के अंदर 30 हजार लीटर दूध से भरे 25 टैंकर जाते। पालनपुर से न्यू रेवाड़ी तक 7,50000 लीटर दूध भेजा जाता है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...