Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

कृषि क्षेत्र में बिजली का इस्तेमाल 37% पहुंचा, लेकिन जलवायु परिवर्तन से जीडीपी को 1.5 प्रतिशत का नुकसान

कृषि क्षेत्र में बिजली की खपत बढ़ रही है। फसलों की नई किस्मों के लिए अधिक सिंचाई मांग और क्षेत्र को मिलने वाली सब्सिडी से डिमांड में तेजी आई है। हालिया रिपोर्ट के अनुसार भारत में कृषि क्षेत्र में बिजली के रूप में प्रत्यक्ष ऊर्जा उपयोग की हिस्सेदारी बढ़कर 37.1 प्रतिशत पर पहुंच गई । जिसमें 10 साल में करीब 9 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। कृषि क्षेत्र ने भारत में सकल मूल्यवर्द्धन में 18.6 प्रतिशत का योगदान दिया।और देश के लगभग 45.5 प्रतिशत कार्यबल आजीविका और रोजगार मिला है। हालांकि टेरी की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन की वजह से हर साल कृषि अर्थव्यवस्था को लगभग 4.9 प्रतिशत नुकसान होने का अनुमान है। और उससे जीडीपी को 1.5 फीसदी का नुकसान हो रहा है।

क्या कहती है रिपोर्ट

द एनर्जी रिसर्च इंस्टिट्यूट (टेरी) की नवीनतम डेटा ईयरबुक के मुताबिक, कृषि क्षेत्र में बिजली की खपत बढ़ रही है। इसे नई फसल किस्मों के लिए अधिक सिंचाई मांग और क्षेत्र को सब्सिडी पर दी जाने वाली बिजली से बल मिल रहा है।पिछले कुछ वर्षों में भारतीय कृषि में प्रत्यक्ष ऊर्जा (बिजली और ईंधन) के साथ अप्रत्यक्ष ऊर्जा (नाइट्रोजन और फास्फोरस उर्वरक, और कीटनाशक) के उपयोग में वृद्धि हुई है।

उर्वरक के रूप में ऊर्जा के अप्रत्यक्ष उपयोग का योगदान 2009-10 में 68.4 प्रतिशत था लेकिन 2019-20 में यह घटकर 60.61 प्रतिशत रह गया। वित्त वर्ष 2021-22 में कृषि क्षेत्र ने भारत में सकल मूल्यवर्द्धन में 18.6 प्रतिशत का योगदान दिया। इसके साथ ही इसने देश के लगभग 45.5 प्रतिशत कार्यबल को आजीविका और रोजगार दिया।

रिपोर्ट के अनुसार 2019-20 में बिजली के रूप में प्रत्यक्ष ऊर्जा उपयोग की हिस्सेदारी बढ़कर 37.1 प्रतिशत पर पहुंच गई । जबकि 2009-10 में यह हिस्सेदारी 28.75 फीसदी थी।

जलवायु परिवर्तन से नुकसान

टेरी के मुताबिक, भारतीय कृषि की संवेदनशीलता आकलन के आधार पर कुल ग्रामीण जिलों में से 19 प्रतिशत (573 ग्रामीण जिले) को बहुत उच्च जोखिम वाले जिलों के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इसके अलावा जलवायु परिवर्तन की वजह से हर साल कृषि अर्थव्यवस्था का लगभग 4.9 प्रतिशत नुकसान होने का अनुमान है। इसकी वजह से कुल मिलाकर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 1.5 प्रतिशत का नुकसान हुआ है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...