Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

कृषि

नोएडा-ग्रेटर नोएडा के किसान सड़क पर उतरने को हुए मजबूर, जानें 149 गांवों की क्या है मांग

नोएडा और ग्रेटर नोएडा के किसान अपनी मांगों को पूरा होता नहीं देख आज सड़क पर उतर गए। और उन्होंने दिल्ली कूच कर दिया। दिन भर किसानों को बैरकेटिंग के जरिए प्रशासन ने दिल्ली में प्रवेश करने से रोका। हजारों किसान जिसमें महिलाएं भी शामिल थी, सड़कों पैदल मार्च कर रहे थे। और कई जगह जब वह आगे नहीं बढ़ पाए तो धरने पर बैठ गए। फिलहाल किसानों का विरोध प्रदर्शन खत्म हो गया है। किसानों ने कमिश्नर के आश्वासन के बाद एक्सप्रेस वे से हटने का ऐलान किया है। प्रशासन ने आश्वासन दिया है कि सीपी की निगरानी में एक कमेटी बनाई जाएगी। और एक सप्ताह में प्राधिकरण के अधिकारियों से किसानों की वार्ता कराई जाएगी। नोएडा से दिल्ली का रूट 6 घण्टे बाद खोला गया ।

सड़क पर क्यों उतरे किसान

जमीन के मुआवजे समेत कई मांगों को लेकर दिल्‍ली से सटे नोएडा और ग्रेटर नोएडा के 149 गांवों के किसान आंदोलन की राह पर हैं। किसान संगठन दिसंबर 2023 से नोएडा और ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण की तरफ से अधिग्रहीत जमीनों के बदले बढ़ा हुआ मुआवजा और विकसित भूखंड देने की मांग को लेकर विरोध- प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके पहले बृहस्पतिर को दिन में नोएडा के दलित प्रेरणा स्थल से किसान बैरीकेड तोड़ चिल्ला बॉर्डर की तरफ बढ़ गए थे। और बड़ी संख्या में किसान दिल्ली के ओर चल पड़े, लेकिन बॉर्डर पर रोक लिया गया।

7 फरवरी को हुई महापंचायत

इसके पहले किसानों ने 7 फरवरी को नोएडा में किसान महापंचायत का आयोजन किया गया। लेकिन नोएडा और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ से ठोस आश्वासन नहीं मिलनेके बाद 8 फरवरी को दिल्‍ली कूच का ऐलान किया गया। अब किसानों को प्रशासन द्वारा दिए आश्वासन के पूरा होने का इंतजार है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...