Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

किसानों को मिलेगा सस्ता लोन, WDRA का इस सरकारी बैंक के साथ समझौता

भंडारण विकास एवं नियामक प्राधिकरण (डब्ल्यूडीआरए) ने किसानों और व्यापारियों को कम ब्याज दर पर लोन देने में के लिए पंजाब एंड सिंध बैंक के साथ समझौता किया है। पंजाब एंड सिंध बैंक बिना किसी गारंटी के कम ब्याज दर पर ई-एनडब्ल्यूआर के माध्यम से लोन देie। इसके तहत कृषि क्षेत्र के अंतर्गत 75 लाख रुपये और अन्य कारोबारियों को पांच करोड़ रुपये तक के लोन दिए जाएंगे। यानी जिन किसानों और कारोबारियों के पास ई-एनडब्ल्यूआर की रसीद होगी, उसके लिए बैंक से लोन लेना आसान हो जाएगा।

मिलेगा ये फायदा

असल में भंडारण विकास एवं नियामक प्राधिकरण (डब्ल्यूडीआरए) के तहत हुए समझौते के बाद किसानों को बिना किसी गारंटी के लोन मिलेगा। साथ ही जिनके पास ई-एनडब्ल्यूआर होगी, वह आसानी से बैंक के सस्ते दर पर लोन प्राप्त कर सकेंगे। उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि ‘इलेक्ट्रॉनिक नेगोशिएबल वेयरहाउस रिसीट’ (ई-एनडब्ल्यूआर) के बदले में लोन हासिल करने के लिए जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा। इलेक्ट्रॉनिक नेगोशिएबल वेयरहाउस रसीदों (ई-एनडब्ल्यूआर) का उपयोग करके फसल कटाई के बाद की गतिविधियों लोन लेना आसान हो सकेगा। समझौते के मौके पर डब्ल्यूडीआरए के अध्यक्ष टी.के. मनोज कुमार, पंजाब एंड सिंध बैंक के एमडी औरर सीईओ स्वरूप कुमार साहा मौजूद थे।

75 लाख रुपये तक कृषि लोन

इस समझौते के बाद किसान ई-एनडब्ल्यूआर के जरिए पंजाब एंड सिंध बैंक से 75 लाख रुपये तक का लोन कृषि गतिविधियों के लिए लोन ले सकेंगे। सबसे अहम बात यह है कि किसान फसल कटाई के बाद के कृषि कार्यों के लिए भी लोन ले सकेंगे। इस समझौते का मकसद किसानों को ई-एनडब्ल्यूआर के जरिए लोन लेने के लिए प्रोत्साहित करना है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...