Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

बागवानी फसलों का तीसरा अग्रिम अनुमान जारी, जानें आलू-टमाटर-फल का कितना होगा उत्पादन

केंद्र सरकार ने बागवानी फसलों के लिए तीसरा अग्रिम अनुमान जारी कर दिया है। अनुमान के अनुसार फलों, सब्जियों, रोपण फसलों, मसालों, फूलों व शहद के उत्पादन में बढ़ोतरी होगी। इसके तहत आलू , टमाटर और सब्जियों को उत्पादन में साल 2021-22 की तुलना में 2022-23 में बढ़ोतरी होगी। साल 2022-23 में कुल बागवानी फसलों का उत्पादन 355.25 मिलियन टन होने का अनुमान है।

आलू-टमाटर-फल का क्या रहेगा हाल

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को साल 2022-23 के लिए विभिन्न बागवानी फसलों के क्षेत्रफल और उत्पादन का तीसरा अग्रिम अनुमान जारी किया है । इसके तहत कुल बागवानी उत्पादन 355.25 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो कि वर्ष 2021-22 (अंतिम) की तुलना में लगभग 8.07 मिलियन टन अधिक (2.32% की बढ़ोतरी) है।

-इस दौरान आलू का उत्पादन 60.22 मिलियन टन होने की उम्मीद है जबकि वर्ष 2021-22 में उत्पादन 56.18 मिलियन था। टमाटर का उत्पादन वर्ष 2021-22 में 20.69 मिलियन टन की अपेक्षा वर्ष 2022-23 में 20.37 मिलियन टन होने की उम्मीद है।

-इसी तरह फलों का उत्पादन वर्ष 2021-22 में 107.51 मिलियन टन से बढ़कर वर्ष 2022-23 में 109.53 मिलियन टन होने का अनुमान है।

-जबकि सब्जियों का उत्पादन वर्ष 2022-23 में 213.88 मिलियन टन होने का अनुमान है । इसके पहले साल 2021-22 में सब्जियों का उत्पादन 209.14 मिलियन टन हुआ था। वहीं रोपण फसलों का उत्पादन वर्ष 2021-22 में 15.76 मिलियन टन से बढ़कर वर्ष 2022-23 में 16.84 मिलियन टन होने का अनुमान है।

कुल बागवानी202122
(अंतिम)
202223
(दूसरा अग्रिम अनुमान)
202223
(तीसरा अग्रिम अनुमान)
क्षेत्रफल (मिलियन हेक्टेयर में)28.0428.1228.34
उत्पादन (मिलियन टन में)347.18351.92355.25

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...