Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

सल्फर कोटेड यूरिया बैग का दाम तय, नीम कोटेड यूरिया से होगा इतना महंगा

केंद्र सरकार ने सल्फर कोटेड यूरिया के दाम तय कर दिए है। यह बैग यूरिया गोल्ड के नाम बिकेगा। जिसे 266.50 रुपये में बेचा जाएगा। रसायन व उर्वरक मंत्रालय के उर्वरक विभाग ने सभी उर्वरक कंपनियों के शीर्ष अधिकारियों को पत्र जारी कर इसकी जानकारी दी है। विभाग के अनुसार आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने 28 जून, 2023 को यूरिया गोल्ड के नाम से सल्फर कोटेड यूरिया लॉन्च करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इसके तहत 40 किलोग्राम के बैग में सल्फर कोटेड यूरिया को नीम कोटेड यूरिया के 45 किलोग्राम बैग के बराबर एमआरपी पर जारी करने की मंजूरी दे दी है। इसकी कीमत जीएसटी सहित 266.50 रुपये होगी।

नीम कोटेड से होगा महंगा

सरकार किसानों को सल्फर कोटेड यूरिया का इस्तेमाल बढ़ाने के लिए प्रेरित करना चाहती है। और उसका दावा है कि उन पर लागत का कोई दबाव नहीं आएगा. साथ ही इससे पर्यावरण के अनुकूल फटिलार्जर का इस्तेमाल बढ़ाया जा सकेगा। सल्फर कोटेड यूरिया के बैग की कीमत तो नीम कोटेड यूरिया के बराबर ही होगी, लेकिन इसमें 5 किलो यूरिया कम होगा। यानी सल्फर कोटेड यूरिया मीम कोटेट यूरिया से करीब 12.50 फीसदी महंगा पड़ेगा।

क्यों फायदेमंद

सल्फर कोटेड यूरिया सल्फर के फोर्टिफिकेशन से तैयार किया जाता है। सामान्य यूरिया में 46 फीसदी नाइट्रोजन (एन) होता है। यूरिया गोल्ड में 37 फीसदी नाइट्रोजन होगा जबकि इसमें 17 फीसदी सल्फर (एस) होगा। सरकार इसके जरिए उपज बढ़ाने और मिट्टी का स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए यूरिया गोल्ड को लॉन्च किया था। सल्फर कोटेड यूरिया इस्तेमाल से पौधों में नाइट्रोजन का बेहतर इस्तेमाल करने की क्षमता बढ़ती है। साथ ही इसके इस्तेमाल से रासायनिक उवर्रक की खपत भी कम होती है। यानि किसानों को इसका डबल फायदा मिलता है। जहां एक तरफ उनकी उपज बढ़ती है वहीं दूसरी तरफ लागत भी कम होती है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...