Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

समाचार

यूपी में किसानों के नलकूप बिजली बिल हो सकते हैं माफ, जमा बिल का भी पैसा होगा वापस!

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली देने का आदेश जल्द जारी करने वाली है। इस संबंध में निर्देश का पूरा खाका तैयार हो गया है। नलकूप कनेक्शन के बिल में 100 प्रतिशत माफी की योजना एक अप्रैल 2023 से लागू होगी। यानी अप्रैल से अब तक जिन किसानों ने अपने नलकूप कनेक्शन का बिल चुका दिया है, उनका पैसा भी रिफंड किया जाएगा। एकमुश्त समाधान योजना के संबंध में ऊर्जा मंत्री ए के शर्मा की ओर से जन प्रतिनिधियों को भेजे जा रहे पत्र में इसका स्पष्ट उल्लेख किया गया है।

नलकूप कनेक्शन पर माफी

ऊर्जा मंत्री ए के शर्मा की ओर से जन प्रतिनिधियों को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि एक अप्रैल 2023 से ही किसानों को सिंचाई के लिए नलकूप कनेक्शन के बिजली बिल पर पूर्ण माफी रहेगी। यानी नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों को इस वित्तीय वर्ष के बिल का कोई भुगतान नहीं करना होगा। साथ ही पत्र में यह भी कहा गया है कि 31 मार्च 2023 तक तथा उससे पूर्व के बकाया बिल पर एकमुश्त समाधान योजना लागू रहेगी। इस प्रकार नलकूप कनेक्शन बिजली बिल माफी का फायदा अप्रैल 2023 से पहले के बकाए पर नहीं लागू होगा। उस पर छूट के लिए किसान एकमुश्त समाधान योजना का फायदा ले सकते हैं।

यूपी में अभी तक किसान अपने निजी नलकूप का आधा बिजली बिल दे रहे थे। आधा बिल सब्सिडी के तौर पर प्रदेश सरकार वहन कर रही है। इस साल प्रदेश सरकार ने बजट में किसानों के लिए 50 फीसदी की और छूट देने की घोषणा की थी। किसानों के ट्यूबवेल की बिजली अप्रैल 2023 से फ्री होनी थी। जबकि 31 मार्च 2023 तक या उसके पहले की बाकी रकम पर एकमुश्त समाधान योजना लागू होगी।

क्या है एक मुश्त समाधान योजना

बिजली बिल के बकाए को खत्म करने के लिए प्रदेश सरकार ने 8 नवंबर से एकमुश्त समाधान योजना लागू की है। इसके तहत तीन चरणों में बकाए बिल का समाधान किया जा सकेगा। पहले चरण में 30 नवंबर तक पंजीकरण योजना का लाभ लेने वाले किसानों को ज्यादा फायदा मिलेगा। योजना 31 दिसंबर तक लागू है। इसके तहत किसानों एवं कम लोड के छोटे उपभोक्ताओं को बकाया बिल में लगाया गया सरचार्ज पूरी तरह माफ किया जाएगा। साथ ही बकाया राशि को किस्तों में भी चुकाया जा सकेगा।

संबंधित पोस्ट

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...

योजना

कृषि क्षेत्र में स्टार्टअप की भागीदारी बढ़ती जा रही है। और उनका संख्या 2200 से ज्यादा पार हो चुकी है। ज्यादातर स्टार्टअप एग्री-टेक से...