Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

कृषि

कोपरा का समर्थन मूल्य 250-300 रुपये बढ़ा, 2024 सीजन के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल का फैसला

कोपरा (नारियल) किसानों के लिए बड़ी खबर है। बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कोपरा के एमएसपी में 300 रुपये प्रति क्विंटल तक की बढ़ोतरी कर दी है। इसके तहत मिलिंग कोपरा और बॉल कोपरा का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाया गया है। मिलिंग कोपरा का एमएसपी 10,860 रुपये से बढ़कर 11,160 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। वहीं बॉल कोपरा का एमएसपी 11,750 रुपये से बढ़कर 12,000 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। इस तरह कोपरा की एमएसपी में 250-300 रुपये की बढ़ोतरी की गई है।

2024 सीजन के लिए ये मानक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति ने 2024 सीजन के लिए खोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को मंजूरी दी है। इसके तहत मिलिंग खोपरा की उचित औसत गुणवत्ता के लिए एमएसपी 11,160 रुपये प्रति क्विंटल और बॉल कोपरा के लिए 12,000 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है। सरकार का दावा है कि इससे मिलिंग कोपरा के लिए 51.84 प्रतिशत और बॉल कोपरा के लिए 63.26 प्रतिशत का मार्जिन सुनिश्चित होगा। मिलिंग खोपरा का उपयोग तेल निकालने के लिए किया जाता है, जबकि बॉल या खाद्य खोपरा को सूखे फल के रूप में खाया जाता है। केरल और तमिलनाडु मिलियन कोपरा के प्रमुख उत्पादक हैं, जबकि बॉल कोपरा का उत्पादन मुख्य रूप से कर्नाटक में होता है।

चालू सीजन में कितनी खरीद

सीजन 2023 में सरकार ने 1,493 करोड़ रुपये की लागत से 1.33 लाख मीट्रिक टन से अधिक खोपरा की रिकॉर्ड मात्रा में खरीद की है, जिसके तहत 90,000 किसानों ने एमएसपी पर बिक्री की है। मौजूदा सीजन 2023 में खरीद पिछले सीजन (2022) की तुलना में 227 प्रतिशत की बढ़ोतरी की उम्मीद है। पिछले 10 वर्षों में, मिलिंग खोपरा और बॉल कोपरा का एमएसपी 5,250 रुपये प्रति क्विंटल और 5,500 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़कर 11,160 रुपये प्रति क्विंटल और 12,000 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है।

भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन महासंघ लिमिटेड (नैफेड) और राष्ट्रीय सहकारी उपभोक्ता महासंघ (एनसीसीएफ) मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस) के तहत कोपरा और छिलके रहित नारियल की खरीद के लिए केंद्रीय नोडल एजेंसियों (सीएनए) के रूप में कार्य करना जारी रखेंगे।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...