Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

कृषि

कहां मिल रहा है सबसे सस्ता ट्रैक्टर लोन, ये 5 बैंक बेहद किफायती

आज के दौर में ट्रैक्टर के बिना खेती का काम बेहद मुश्किल भरा है। इसलिए ट्रैक्टर की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। और जरूरत के अनुसार भारत में ट्रैक्टर की कीमत 2.50 लाख रु से शुरू होकर 34 लाख रुपये तक रेंज में उपलब्ध है। ऐसे में यदि आप नया ट्रैक्टर खरीदने की सोच रहे हैं, तो ट्रैक्टर लोन एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। यहां हम आपको अलग-अलग बैंकों की ट्रैक्टर लोन की ब्याज दरों के बारे में बता रहे हैं, जहां पर सस्ता लोन मिल रहा है। बैंक प्रमुख रुप से 5-7 साल के लिए ट्रैक्टर लोन देते हैं और 85-90 फीसदी तक लोन फाइनेंस करते हैं।

SBI ट्रैक्टर लोन

देश का सबसे बड़ा बैंक SBI 11.85 फीसदी की दर से ट्रैक्टर लोन दे रहा है। बैंक की वेबसाइट के अनुसार इसके ट्रैक्टर लोन की रेट 1 साल की एमसीएआर (8.55 फीसदी)+3.30 फीसदी है। एसबीआई 2 लाख रु तक के ट्रैक्टर लोन पर कोई चार्ज नहीं लेता। उससे ज्यादा के लोन पर, कुल लोन राशि का 1.40% +जीएसटी लिया जाता है। एसबीआई आपको अधिकतम 25 लाख रु तक ट्रैक्टर लोन देता है।

HDFC बैंक

एचडीएफसी बैंक के ट्रैक्टर लोन की शुरूआती दर 8.98 फीसदी है। हालांकि बैंक ईएमआई लेट होने पर 1.50% प्रति माह (18% प्रति वर्ष) की दर से पेनॉल्टी भी लेता है। और अधिकतम लोन रेट 24 फीसदी है।

ICICI बैंक

आईसीआईसीआई बैंक 12 से 22.2 फीसदी की ब्याज दर पर कर्ज देता है। बैंक से ट्रैक्टर लोन लेने के लिए आपके पास न्यूनतम 3 एकड़ जमीन होनी चाहिए। हालांकि इसमें सरकार की सब्सिडी और दूसरी योजनाओं के लाभ शामिल नही हैं।

अन्य प्रमुख बैंकों की ब्याज दरें

AXIS बैंक नए ट्रैक्टर के लिए 17.5 से 20 फीसदी ब्याज लेता है। और पुराने ट्रैक्टर के लिए 18 से 24 फीसदी ब्याज लेता है।
इसी तरह YES बैंक नए ट्रैक्टर के लिए 12.2 से 17 फीसदी और पुराने ट्रैक्टर के लिए 17.5 से 23.1 फीसदी ब्याज लेता है।

नोट- इसके अलावा कई राज्य सरकारें ट्रैक्टर लोन पर सब्सिडी देती हैं। जो कि हर राज्य के अनुसार अलग-अलग होती है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...