Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

26 जनवरी को 500 जिलों में ट्रैक्टर परेड की तैयारी, संयुक्त किसान मोर्चा का ऐलान

आगामी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर किसान संगठन संयुक्त किसान मोर्चा ट्रैक्टर परेड निकालने की तैयारी में है। यह परेड देश भर के 500 जिलों में आयोजित करने की योजना है। किसान राष्ट्रीय ध्वज के साथ-साथ घटक संगठनों के झंडे भी लहराएंगे। हालांकि ये परेड गणतंत्र दिवस परेड को देखते हुए दिल्ली में नहीं निकाली जाएगी। इसके अलावा संगठन की राज्य इकाइयां 20 राज्यों में घर-घर जाकर और पत्रक वितरण के माध्यम से पूरे भारत में अगले साल 10-20 जनवरी तक ‘जन जागरण’ अभियान चलाएंगी। जिसका उद्देश्य केंद्र सरकार की कथित कॉर्पोरेट समर्थक आर्थिक नीतियों को उजागर करना है।

क्या है तैयारी

किसानों के संगठन संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) द्वारा जारी बयान के अनुसार एसकेएम 26 जनवरी, 2024 को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में जिला स्तर पर ट्रैक्टर परेड आयोजित करेगा। उम्मीद है कि परेड देश के कम से कम 500 जिलों में आयोजित की जाएगी। एसकेएम ने किसानों से बड़ी संख्या में इस परेड में शामिल होने की अपील की है। संगठन का दावा है कि ट्रैक्टर परेड में शामिल होने वाले किसान राष्ट्रीय ध्वज के साथ-साथ घटक संगठनों के झंडे भी लहराएंगे। किसान भारत के संविधान में निहित लोकतंत्र, संघवाद, धर्मनिरपेक्षता और समाजवाद के सिद्धांतों की रक्षा करने का संकल्प लेंगे।

जनजागरण अभियान की तैयारी

एसकेएम ट्रैक्टर परेड के अलावा एक जनजागरण अभियान भी चलाएगा। इसके तहत राज्य इकाइयां 20 राज्यों में घर-घर जाकर और पत्रक वितरण के माध्यम से पूरे भारत में अगले साल 10-20 जनवरी तक ‘जन जागरण’ अभियान चलाएंगी। बयान के अनुसार इस जन अभियान का उद्देश्य केंद्र सरकार की कथित कॉर्पोरेट समर्थक आर्थिक नीतियों को उजागर करना है। इसके पहले संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने सभी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को कानूनी गारंटी बनाने, कर्ज जाल से छुटकारा और विद्युतीकरण के निजीकरण पर रोक लगाने से जुड़ी मांगों को लेकर जनवरी में पंजाब में एक अखिल भारतीय सम्मेलन आयोजित करने का भी ऐलान किया है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...