Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

महिंद्रा ने लांच किया CNG ट्रैक्टर, हर घंटे 100 रुपये बचत होने का दावा

भारत की प्रमुख ट्रैक्टर निर्माता कंपनी महिंद्रा ने अपना पहला सीएनजी मोनो फ्यूल ट्रैक्टर पेश कर दिया है। महिंद्रा युवा रेंज नाम से पेश इस नए सीएनजी ट्रैक्टर में डीजल की जगह सीएनजी इस्तेमाल होगी । मोनो सीएनजी का मतलब यह है कि यह केवल सीएनजी से चलेगा। यानी वह कार की तरह दो ईंधन से नहीं चलेगा। सीएनजी ट्रैक्टर में 45 लीटर क्षमता वाले चार टैंक या 200-बार प्रेशर पर भरे गए 24 किलोग्राम गैस रखने की क्षमता है। कंपनी का दावा है कि डीजल ट्रैक्टरों की तुलना में प्रति घंटे 100 रुपये की बचत होगी। इससे किसानों की कृषि लागत कम करने में काफी मदद मिलेगी

खर्च बचेगा

कंपनी का दावा है कि सीएनजी ट्रैक्टर से न केवल ईंधन कम लगेगा, बल्कि प्रदर्शन बेहतर होने के साथ लागत भी कम आएगी। सीएनजी ट्रैक्टर को महिंद्रा की चेन्नई स्थित रिसर्च वैली में डेवलप किया गया है। महिंद्रा का दावा है कि सीएनजी ट्रैक्टर भी उसके डीजल मॉडल जितना ही दमदार है और इसमें ईंधन की खपत 70 प्रतिशत तक कम होती है। इसके अलावा इंजन का वाइब्रेशन भी बहुत कम है और आवाज भी ज्यादा नहीं करता। और इंजन की उम्र भी ज्यादा है।

सभी तरह के खेती का कम करने में सक्षम

सीएनजी ईंधन से चलने वाल यह ट्रैक्टर मौजूदा डीजल ट्रैक्टरों की ही तरह हर किस्म के कृषि और ढुलाई के काम कर सकता है। इसके अलावा गैर कृषि काम करने में भी सक्षम है। इसके अलावा आवाज के स्तर पर डीजल ट्रैक्टरों की तुलना में 3.5डीबी कम है। नागपुर में आयोजित एग्रोविजन में ट्रैक्टर को लांच करते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सीएनजी ट्रैक्टर से किसान की आपरेशनल लागत में 55 फीसदी तक कमी आएगी।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...