Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

मेरठ: किसान ने SDM ऑफिस में खुद को लगाई आग, वन विभाग पर जमीन हड़पने का आरोप

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के मवाना में एक किसान ने एसडीएम ऑफिस परिसर में खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। हादसे के बाद अफरा-तफरी मच गई। लोग कंबल और पानी लेकर आग बुझाने के लिए दौड़े। लेकिन इस दौरान 15-20 मिनट तक किसान जगवीर जलता रहा। लोगों ने जब तक आग बुझाई तब तक किसान बुरी तरह से झुलस चुका था। हादसे के बाद किसान को लोग तुंरत मवाना सीएचसी ले गए। खबर लिखे जाने तक किसान की हालत गंभीर बनी हुई थी।

क्या है मामला

दैनिक जागरण के अनुसार किसान का नाम जगवीर है। जो मवाना में एसडीएम अखिलेश यादव के पास अपनी फरियाद लेकर पहुंचा था। बताया जा रहा है कि जगवीर की एक जमीन थी, जिस पर वह काफी बरसों से खेती करता था, पर वन विभाग ने उस जमीन को अपना बताते हुए उस पर कब्जा कर लिया । जिसकी शिकायत उसने एसडीएम मवाना से की थी।

पीड़ित किसान ने यह भी आरोप लगाया कि 2 दिन पहले उसकी की गेहूं की खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चला दिया गया और फसल को नष्ट कर दिया गया । खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चलाने से किसान को काफी नुकसान हुआ था और वह इसी की फरियाद लेकर एसडीएम आफिस पहुंचा था। उसकी फरियाद पर कोई सुनवाई नहीं होने से परेशान होकर किसान ने खुद को आग के हवाले कर दिया।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने साधा निशाना

इस घटना के बाद घटना के बाद समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने यूपी की योगी सरकार पर निशाना साधा है । उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है कि उप्र में भाजपा के तथाकथित अमृतकाल की इससे दुर्भाग्यपूर्ण तस्वीर और क्या हो सकती है कि देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ समझे जानेवाला किसान आज अपनी ज़मीन को बचाने के लिए ख़ुद को आग लगाने पर मजबूर हो रहा है। हताश होकर खुद को आग लगानेवाले किसान को सबसे पहले अच्छे से अच्छा इलाज सुनिश्चित कर बचाया जाए और फिर उसकी जमीन लौटाई जाए। भाजपा खेती और किसान दोनों को विरोधी है। जबसे भाजपा आई है तबसे उसकी बुरी नज़र किसानों की ज़मीन पर भी है और उनकी पैदावार पर भी।

दैनिक जागरण के अनुसार घटना स्थल पर हस्तिनापुर विधायक और राज्य मंत्री दिनेश खटीक भी पहुंचे । उन्होंने कहा कि पहले किसान को नोटिस दिया जाना चाहिए था और नोटिस देने के बाद ही जमीन पर कब्जा करना चाहिए था। किसान को अपनी फसल कटने का मौका देना चाहिए था। जिस भी अधिकारी ने यह गलती की है या इस मामले में जो भी अधिकारी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...