Connect with us

Hi, what are you looking for?

English

News

बरेली में किसान की पीट-पीट कर हत्या, छुट्टा पशुओं को लेकर हुआ था विवाद

बरेली जिले के विसारतगंज थाना इलाके में दो पक्षों में छुट्टा पशुओं को लेकर हुए विवाद में एक किसान की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई और उसके परिवार के दो अन्य लोग घायल हो गए। गांव के कई लोगों के खेत गंगा किनारे हैं। ऐसे में मृतक और घायल किसान खेत की रखवाली करने के लिए के लिए गए थे। रात में नौ-दस बजे के करीब खेत में छुट्टा पशु घुस आए। छुट्टा पशुओं को भगाने के विरोध में विवाद में आरोपी पक्ष ने हमला किया और इस हमले में किसान नन्हे की मौत हो गई, जबकि मकेश और सुरजीत घायल हो गए। जबकि सभी आरोपी मौके से फरार हो गए। पुलिस उनकी पड़ताल कर रही है।

आरोपी पक्ष से किसी को चोट नहीं

बरेली के पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) मुकेश चंद्र मिश्रा ने बताया कि आवारा पशुओं के खेत में घुसने को लेकर शनिवार की रात दो पक्षों में झगड़ा हो गया। इस विवाद में एक ही पक्ष के दो लोग घायल हो गए और एक की मौत हो गई। फत्तेहपुर ठाकुरान निवासी वीरपाल सिंह ने बताया कि उनके और गांव के कई लोगों के खेत गंगा किनारे हैं। वह खेत की रखवाली करने के लिए अपने भाई मुकेश, परिवार के नन्हे और सुरजीत के साथ शनिवार शाम छह बजे खेत पर गए थे। रात में नौ-दस बजे के करीब खेत में छुट्टा पशु घुस आए तो मुकेश, नन्हे और सुरजीत उन्हें भगाने लग गए। इतने में खजुआई गांव का गब्बर, शिव कुमार व अन्य छुट्टा पशुओं को भगाने का विरोध करते हुए गाली गलौज करने लगे। इस दौरान जमकर लाठी-डंडे चले जिसमें नन्हे (45) की मौत हो गई, जबकि मकेश और सुरजीत घायल हो गए। उन्होंने दूसरे गुट पर गोलीबारी का भी आरोप लगाया है।

घायल जिला अस्पताल में भर्ती

सूचना पर आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी मौके से फरार हो गए। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है।शारतगंज के थाना प्रभारी ने बताया कि विवाद में लाठी-डंडे चले जिसमें एक पक्ष के किसान की ज्यादा चोट लगने से मौत हो गई। उन्होंने कहा कि शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया जा रहा है। आरोपियों की तलाश जारी है।

संबंधित पोस्ट

समाचार

उत्तर प्रदेश में खेती के लिए नलकूप कनेक्शन लेने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार इन किसानों को मुफ्त में बिजली...

कृषि

दूध उत्पादन में उत्तर प्रदेश के किसानों ने कमाल कर दिया है। प्रदेश 15 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के साथ सबसे ज्यादा दूध...

नीति

मजबूती शुगर लॉबी के दबाव के चलते आखिरकार केंद्र सरकार को अपने एक सप्ताह पुराने फैसले से यू-टर्न लेना पड़ा। देश के चीनी उत्पादन...

संघर्ष

छुट्टा जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में 15 दिनों के भीतर आवारा जानवारों के...