बुधवार, 21 अप्रैल 2021
सफल किसान

‘आत्मनिर्भर किसान’ पर केंद्रित पूसा कृषि मेला 25 से 27 फरवरी के बीच आयोजित होगा



कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए पूसा कृषि मेले में महामारी संबंधी सुरक्षा नियमों का पालन किया जाएगा

देश भर के किसानों, कृषि वैज्ञानिकों और नवाचारों को एक मंच पर लाने वाला भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (IARI) का विख्यात पूसा कृषि विज्ञान मेला इस साल 25 फरवरी से 27 फरवरी के बीच आयोजित किया जाएगा। नए बीजों, कृषि यंत्रों और खेती से जुड़ी नई विधियों को किसानों तक पहुंचाने में अहम भूमिका अदा करने वाले इस कृषि मेले के आयोजन को लेकर इस साल कई अटकलें लगाई जा रही थीं। लेकिन कोरोना संकट से उबरते हुए गत वर्ष की भांति इस साल भी पूसा कृषि मेले के आयोजन का निर्णय लिया गया है। मेला का उद्घाटन कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर करेंगे। इस साल की थीम ‘आत्मनिर्भर किसान’ रखी गई है।

मेले के मुख्य आकर्षण

कृषि मेले में आईएआरआई द्वारा विकसित बीजों की कई किस्में पेश की जाएंगे, जिनमें पूसा बासमती 1692 नाम की धान की नई किस्म भी शामिल है, जो केवल 115 दिनों के बीच तैयार हो जाती है। इसके अलावा कृषि, बागवानी, पशुपालन और फूड प्रोसिसिंग से जुड़ी नई तकनीक और नवाचारों का प्रदर्शन भी किया जाएगा। यह मेला देश के प्रगतिशील किसानों के लिए नई जानकारियों जुटाने और सीख लेने का एक अच्छा मौका है। यहां किसानों को कई उन्नत बीज भी उपलब्ध कराये जाते हैं।

कोविड-19 दिशानिर्देशों का होगा पालन

कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए पूसा कृषि मेले में मास्क पहनने, शारीरिक दूरी बनाये रखने और महामारी संबंधी सुरक्षा नियमों का पालन किया जाएगा। इसी वजह से किसानों को रात्रि प्रवास की सुविधा नहीं दी जा रही है। इससे दूरदराज से आने वाले किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। हरेक दिन सीमित संख्या में ही किसानों को मेले में प्रवेश दिया जाएगा।