मेरा गांव

मप्र: कर्ज तले दबे किसान ने एसिड पीकर दी जान



देश में कर्ज के बोझ तले किसानों की खुदकुशी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब मध्‍य के इंदौर जिले में कथित तौर पर कर्ज के बोझ से परेशान 41 वर्षीय किसान ने एसिड पी लिया।

देश में कर्ज के बोझ तले किसानों की खुदकुशी का सिलसिला थमने का नाम  नहीं ले रहा है। अब मध्‍य के इंदौर जिले में कथित तौर पर कर्ज के बोझ से परेशान 41 वर्षीय किसान ने एसिड पी लिया। अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी।

बड़गोंदा क्षेत्र के कैलोद गांव में रहने वाले , 41 की इलाज के दौरान कल रात मौत हो गयी। सुनील के बडे़ भाई माखनलाल ने कहा कि उनके अनुज ने पंजाब नेशनल बैंक से ढाई लाख रपये का कर्ज ले रखा था। इसके अलावा, उसने एक साहूकार से भी कुछ रकम उधार ले रखी थी। उन्होंने कहा, खेती में नुकसान के कारण सुनील कर्ज चुका नहीं पा रहा था। इस पर आये दिन कर्जदाताओं के तगादों के कारण वह मानसिक रूप से बेहद परेशान चल रहा था।

इस बीच, पुलिस ने इस बात को सिरे से खारिज किया कि किसान ने कर्ज न चुका पाने के कारण जान दी। बड़गोंदा थाने के प्रभारी मोहनलाल मीणा ने कहा कि इजारदार ने पुलिस को मृत्यु से पूर्व दिये बयान में खुद पर किसी तरह कर्ज बकाया होने की कोई बात नहीं की है। मीणा ने कहा, इजारदार ने 16 जून को एसिड पी लिया, जब वह घर में अकेला था। वह मानसिक रूप से परेशान था।

उन्होंने बताया कि इजारदार ने खाद भरने की प्लास्टिक की थैलियां बनाने का छोटी..सी इकाई भी शुरू की थी। लेकिन इस काम में उसे नुकसान हो गया था। इसके बाद उसने रेडीमेड कपड़ों की दुकान खोली। लेकिन यह दुकान भी नहीं चल सकी थी।

  • असलीभारत टीम