मेरा देश

कटहल खाने पर छिड़ा विवाद, ब्रिटेन के अखबार ने बताया भद्दा



ब्रिटेन के अखबार ‘दि गार्डियन’ में कटहल को एक लेख में भद्दा बताने पर सोशल मीडिया पर लगा भेदभाव का आरोप

कटहल खाने को सेहत के लिए कई लिहाज से फायदेमंद माने जाता है। लेकिन ब्रिटेन के प्रमुख अखबारों में शुमार किए जाने वाले ‘दि गार्डियन’ अखबार में 27 मार्च, 2019 को कटहल से संबंधित एक लेख प्रकाशित हुआ। इसे लिखा है जो विलियम्स ने। विलियम्स ने अपने लेख में कटहल को भद्दा और बदसूरत बताया गया है।

जो विलियम्स ने इस लेख में यह भी कहा है कि भारत के लोग इस फल को पेड़ों पर सड़ने के लिए छोड़ देते थे। उनका कहना है कि भारत में सिर्फ वही लोग खाते थे जिनके पास इससे बेहतर खाने के लिए कुछ नहीं होता था।

लेखक ने यह भी कहा है कि भारत में लोग पहले इसे नहीं खाते थे और अब लोग मांस के विकल्प के तौर पर इसे खा रहे हैं। लेखक ने कहा है कि कटहल की अब लाॅटरी लग गई है। विलियम्स ने यह भी दावा किया है कि पांच साल पहले तक कटहल उपजाया भी नहीं जाता था। लोग इसे पेड़ों पर सड़ने के लिए छोड़ देते थे लेकिन अब भारत से इसका निर्यात हो रहा है।

दि गार्डियन के इस लेख में कटहल से संबंधित कई तथ्यात्मक गलतियां हैं। लेखक ने कटहल को फल बताया है। लेकिन भारत में कटहल का इस्तेमाल सब्जी के तौर पर होता आया है। कटहल वैसे लोग नहीं खाते आए हैं, जिनके पास खाने को कुछ नहीं था बल्कि इसे सामान्य लोग ही खाते आए हैं।

सामान्यतः एक सब्जी के तौर पर बाजार में दूसरी सब्जियों के मुकाबले कटहल की कीमत अधिक होती है। इससे पता चलता है कि कटहल विकल्पहीनता की सब्जी नहीं बल्कि शौक की सब्जी रही है। उत्तर भारत में होली के त्योहार पर अधिकांश घरों में कटहल की सब्जी बनती है। कटहल का अचार भी लोग बहुत पसंद से खाते हैं।

इस लेख को लेकर ‘दि गार्डियन’ और लेखक को सोशल मीडिया पर काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। कुछ लोग इसे ब्रिटेन के अखबार की ओर से खाने-पीने की चीजों के लिए चलाया जा रहा ‘नस्लवाद’ कहा है।

वहीं कुछ लोग लेखक के इस दावे पर सवाल उठा रहे हैं कि सिर्फ पांच साल से इसे उपजाया जा रहा है। भारत में ही काफी पहले से लोग कटहल खाते रहे हैं। उत्तर से लेकर दक्षिण भारत तक में कटहल को लोग बड़े चाव से खाते रहे हैं। केरल में हमेशा से कटहल की बहुत अच्छी पैदावार होती थी। कटहल केरल का राजकीय फल है। श्रीलंका के लोगों के खान-पान में भी कटहल का प्रमुख स्थान रहा है।

दरअसल, जिस कटहल को ब्रिटेन का अखबार भद्दा और बदबूदार बता रहा है, उस कटहल के कई औषधीय गुण भी हैं। इस वजह से कुछ खास स्वास्थ्य समस्याओं के समाधान के लिए कटहल खाने की सलाह डाॅक्टर भी देते हैं।

कटहल में कई पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। इसमें विटामिन-ए, विटामिन-सी, थाइमिन, पोटैशियम, कैल्शियम, राइबोफ्लेविन, आयरन, नियासिन, जिंक और ढेर सारा फाइबर होता है। इस वजह से कटहल स्वास्थ्य के लिए बेहद गुणकारी है।

कटहल में कैलोरी नहीं होने की वजह से इसे दिल के रोगियों के लिए बेहद उपयोगी माना जाता है। कटहल में पोटैशियम होने से यह रक्तचाप नियंत्रित रखता है। इससे भी दिल के मरीजों को लाभ मिलता है। एनीमिया की समस्या से पार पाने में भी कटहल सहायक होता है। क्योंकि इसमें आयरन प्रचुर मात्रा में होती है।

कटहल खाने से पाचन तंत्र को स्वस्थ्य रखने में भी मदद मिलती है। कब्ज की समस्या के समाधान के लिए भी कटहल उपयोगी है। अस्थमा और थायराॅयड में भी कटहल खाना फायदेमंद रहता है। हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में भी कटहल खाना फायदेमंद साबित होता है। डाॅक्टर कहते हैं कि ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या से भी कटहल बचाता है। जोड़ों के दर्द में भी कटहल खाने की सलाह डाॅक्टर देते हैं।

  • असली भारत टीम